IPL 2024: ऋषभ पंत की मुश्किलें बढ़ीं, हो सकते हैं गंभीर नतीजे

0
481

IPL 2024 का 26वां मैच लखनऊ सुपर जायंट्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच खेला गया था। यह मैच दिल्ली कैपिटल्स के लिए जीवन रेखा की तरह रहा है। दिल्ली ने इस मैच में लखनऊ को हराकर इस सत्र की अपनी दूसरी जीत हासिल की है। लेकिन इस जीत के बाद भी दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान ऋषभ पंत की परेशानी बढ़ने लगी है। इस मैच के दौरान पंत और अंपायर के बीच समीक्षा विवाद नहीं रुक रहा है। पंत की अनावश्यक बहस के कारण, बीसीसीआई से कप्तान पर जुर्माना लगाने की मांग भी की गई है। इसके कारण पंत को IPL के दौरान खतरनाक परिणामों का सामना करना पड़ सकता है।

पंत पर जुर्माना किसने लगाया?

पंत और अंपायर के बीच रिव्यू को लेकर विवाद 3-4 मिनट तक जारी रहा। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर एडम गिलक्रिस्ट इस बात से खफा हैं। उन्होंने न केवल पंत के रवैये पर सवाल उठाए हैं, बल्कि बीसीसीआई से उन पर जुर्माना लगाने की भी मांग की है। गिलक्रिस्ट ने क्रिकबज से बात करते हुए कहा कि अगर कप्तान को अंपायर से किसी बात की शिकायत करनी है तो उन्हें ऐसा करने में संकोच नहीं करना चाहिए। इसमें कोई समस्या नहीं है, लेकिन इसमें इतना समय नहीं लगना चाहिए। पंत और अंपायर के बीच जो बहस हो रही थी वह कोई बड़ी बात नहीं थी, लेकिन फिर भी पंत 3-4 मिनट तक अंपायर से बहस करते रहे। यदि कोई खिलाड़ी इस तरह से बातचीत को लम्बा खींचता है, तो उस पर जुर्माना लगाया जाना चाहिए।

क्या है पूरा मामला

एडम गिलक्रिस्ट ने कहा कि इस मैच में मैंने देखा कि अंपायरों को खेल को अधिक नियंत्रित करने की आवश्यकता है। ऋषभ पंत ने चौड़ी गेंद के लिए समीक्षा की या नहीं, यह सिर्फ एक गलतफहमी थी। इसके बाद भी पंत वहां खड़े रहे और इस छोटी सी बात का प्रचार करते रहे, यह पूरी तरह से गलत था। अंपायर को स्थिति पर नियंत्रण रखना चाहिए था और तुरंत खेल शुरू करना चाहिए था, लेकिन अगर कप्तान या कोई खिलाड़ी अभी भी लंबे समय से बहस कर रहा है, तो उन पर जुर्माना भी लगाया जाना चाहिए। आपको बता दें कि ऋषभ पंत के रिव्यू विवाद को लेकर सोशल मीडिया पर बहस चल रही है। रीप्ले में यह स्पष्ट रूप से देखा गया था कि पंत ने अपने हाथ से ‘टी’ बनाकर समीक्षा के लिए कहा था, लेकिन फिर भी बाद में वह अंपायर के साथ बहस में पड़ गए कि उन्होंने समीक्षा के लिए नहीं कहा था। यह देखा जाना बाकी है कि इस मामले में पंत के खिलाफ कोई कार्रवाई की जाएगी या नहीं।