मुशीर खान बने ‘हाउस पियर्सर’; अपने ही भाई सरफराज खान को आउट करने का रास्ता बताया

0
30
sarfaraz khan musheer khan
AsportsN। Image Credit: Social Media

इन दिनों दो खान भाई भारतीय क्रिकेट में चर्चा में हैं। सरफराज खान ने इंग्लैंड श्रृंखला के बीच में राजकोट टेस्ट में पदार्पण किया और अपने पहले ही टेस्ट मैच से सुर्खियों में आए। दूसरी ओर, सरफराज के छोटे भाई मुशीर खान ने अंडर-19 क्रिकेट विश्व कप में सुर्खियां बटोरी थीं। विश्व कप के बाद मुशीर रणजी ट्रॉफी में भी कमाल कर रहे हैं। इस बीच उन्होंने एक साक्षात्कार दिया और उसमें कई बातें बताई। लेकिन इसमें सबसे खास बात यह थी कि उन्होंने अपने ही भाई सरफराज खान के एक बड़े रहस्य का खुलासा किया।

खास बात यह थी कि उन्होंने बताया कि सरफराज की कमजोरी क्या थी? इसके बाद उन्हें सोशल मीडिया पर मजाक में हाउस पियर्सर के रूप में भी टैग किया गया। उन्होंने कहा कि सभी प्रशंसक यही जानना चाहेंगे। मुशीर ने सरफराज को आउट करने का रास्ता बताया और उसकी कमजोरी पर एक बड़ा राज़ बताया। हर कोई जानता है कि सरफराज खान आक्रामक बल्लेबाज हैं। उनके भाई मुशीर ने बताया कि बचपन में जब दोनों नेट्स पर एक साथ अभ्यास करते थे, तो मुशीर अपने बड़े भाई सरफराज की आक्रामकता को निशाना बनाता था।

सरफराज खान को आउट करने का क्या तरीका है?

आपको बता दें कि मुशीर खान भी बाएं हाथ के स्पिनर हैं। पहले अंडर-19 विश्व कप और फिर रणजी ट्रॉफी में बल्ले से कमाल करने के बाद मुशीर ने गेंद से भी अपनी प्रतिभा दिखाई। साक्षात्कार में सरफराज खान को आउट करने के तरीके के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा, ‘उनकी (सरफराज खान की) आक्रामकता को तोड़ना धैर्य की परीक्षा है। भाई के दिमाग से खेलना पड़ता है। उसके पास बहुत सारे शॉट हैं, आपको उसके धैर्य के साथ खेलना होगा।

मुशीर खान ने आगे कहा, ‘वह ऑफ स्टंप के बाहर उड़ने वाली गेंद फेंक सकते हैं। इसके अलावा, उसे ऐसी गेंद पर स्लॉग स्वीप या फाइन लेग खेलने के लिए मजबूर करें ताकि वह कैच आउट हो सके। अब मुशीर की यह सलाह भारतीय प्रशंसकों को बिल्कुल पसंद नहीं आएगी। जबकि इंग्लैंड के गेंदबाज इसे ध्यान से पढ़ेंगे और जानना चाहेंगे। इंग्लिश गेंदबाज सरफराज खान के खिलाफ धर्मशाला टेस्ट में इस चाल को अपना सकते हैं।

रांची टेस्ट में फ्लॉप

सरफराज खान की बात करें तो राजकोट टेस्ट में डेब्यू करते हुए उन्होंने 62 और नाबाद 68 रन की पारी खेली थी। उसके बाद जब वह रांची टेस्ट खेलने गए तो उनसे काफी उम्मीदें थीं। लेकिन वहां सरफराज ने पहली पारी में 14 रन बनाए और दूसरी पारी में खाता भी नहीं खोल सके। इस तरह उन पर धर्मशाला में रन बनाने का दबाव होगा। अब यह देखना बाकी है कि वह इस चुनौतीपूर्ण पिच पर कैसे खेलते हैं। इंग्लैंड के बल्लेबाज पहले दिन के तीसरे सत्र में पहली पारी में 218 रन पर आउट हो गए। जबकि अब भारत ने अच्छी शुरुआत की है। देखना होगा कि अगर सरफराज दूसरे दिन बल्लेबाजी करने आते हैं तो वह कैसे बल्लेबाजी करेंगे?