राजस्थान का दबदबा जारी, इन 4 टीमों के लिए प्लेऑफ में पहुंचना मुश्किल

0
1078

IPL 2024 का 31वां मैच किसी आश्चर्य से कम नहीं था। राजस्थान ने एक मैच में जीत दर्ज की है जो पूरी तरह से कोलकाता नाइट राइडर्स के नाम पर था। राजस्थान के विस्फोटक बल्लेबाज जोस बटलर एक आदमी की सेना की तरह अकेले लड़ते रहे और अंततः टीम को जीत दिलाने में कामयाब रहे। इस मैच में रॉयल्स की जीत के साथ, यह लगभग निश्चित है कि वे प्लेऑफ़ में खेलेंगे। राजस्थान ने इस सीजन में अब तक 7 मैच खेले हैं, जिनमें से उसने 6 मैच जीते हैं। दूसरी ओर 4 ऐसी टीमें हैं जिनके लिए प्लेऑफ की दौड़ लगभग खत्म हो चुकी है।

हार के बाद भी मजबूत स्थिति में है केकेआर

IPL 2024 की अंक तालिका हर मैच के बाद बदल रही है। टूर्नामेंट एक ऐसे चरण में पहुंच गया है जहाँ हर मैच या तो टीम को बाहर कर सकता है या प्लेऑफ़ के लिए टिकट प्राप्त कर सकता है। राजस्थान से हारने के बाद भी कोलकाता की टीम काफी मजबूत स्थिति में है। केकेआर ने इस सीजन में अब तक 6 मैच खेले हैं, जिनमें से उसने 4 मैच जीते हैं। इस मैच से पहले भी केकेआर दूसरे स्थान पर थी और अभी भी दूसरे स्थान पर है, लेकिन अब उसके खाते में 2 हार हैं। हालाँकि, अंक तालिका में अपनी मजबूत स्थिति के कारण, यह निश्चित माना जाता है कि कोलकाता प्लेऑफ़ में खेलेगी। इसके अलावा चेन्नई सुपर किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद भी मजबूत स्थिति में नजर आ रहे हैं। लेकिन ऐसी 4 टीमें हैं जो इस दौड़ से लगभग बाहर हो चुकी हैं।

यह लगभग तय है कि ये 4 टीमें बाहर हो जाएंगी

आपको बता दें कि IPL 2024 में अब तक खेले गए मैचों के आधार पर यह अनुमान लगाया जा रहा है कि प्लेऑफ से 4 टीमों का प्रस्थान लगभग तय है। इनमें सबसे पहले रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर का नाम आता है, जिसने 7 मैच खेले हैं, लेकिन सिर्फ एक मैच जीत पाई है। दिल्ली कैपिटल्स और मुंबई इंडियंस भी इस सूची में शामिल हैं। दोनों टीमें 6 में से केवल 2 मैच ही जीत पाई हैं। इसके अलावा पंजाब किंग्स का प्लेऑफ से बाहर होना भी तय लगता है। पंजाब भी 6 में से केवल 2 मैच ही जीत सका है। प्लेऑफ में आसानी से पहुंचने के लिए किसी भी टीम को 8 मैच जीतने होंगे। प्रत्येक टीम को 14 लीग मैच खेलने हैं। अगर बात करें आरसीबी की तो बेंगलुरु को 7 और मैच खेलने हैं। अगर बेंगलुरु को प्लेऑफ में पहुंचना है तो उसे सभी 7 मैच जीतने होंगे, जो इतना आसान नहीं होगा। इसी तरह बाकी 3 टीमों के लिए भी यह रास्ता बहुत मुश्किल होने वाला है।