विधथ कावेरप्पा डेब्यूः पहले भाग्य ने धोखा दिया, फिर मौका मिला, ऐसा डेब्यू कभी नहीं देखा

0
696

गुरुवार को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और पंजाब किंग्स के बीच आईपीएल के 58वें मैच से भाग्य के खेल को समझा जा सकता है। गुरुवार को भाग्य का यह खेल हिमाचल के मैदान पर युवा गेंदबाज विधवत कवरप्पा के साथ देखा गया। कवेरप्पा ने पंजाब किंग्स के लिए अपनी शुरुआत की। भाग्य ने उन्हें तीन बार धोखा दिया, लेकिन जब यह बदल गया, तो यह इस तरह से बदल गया कि इससे उन्हें सफलता मिली। आइए आपको बताते हैं क्या है पूरा मामला…

तीन बार कैच एंड ड्रॉप हुए, 2 विकेट भी लिए

दरअसल विधवत कवेरप्पा की गेंद पर तीन बार कैच गिराए गए, लेकिन इसके बाद उन्हें दो विकेट भी मिले। कवेरप्पा के पहले ओवर की तीसरी गेंद पर विराट कोहली का कैच गिरा। विराट उस समय शून्य पर थे। कोहली ने इसे ऑन साइड की ओर मारने की कोशिश की, लेकिन ठीक से कनेक्ट नहीं हो सके। आशुतोष शर्मा ने दौड़ते हुए उसे पकड़ने की कोशिश की, लेकिन वह चूक गए। इस तरह कवेरप्पा अपने पहले ही ओवर में विकेट लेने से चूक गए।

इसके बाद दूसरे ओवर में भाग्य ने कवरप्पा का साथ दिया। कावरप्पा ने तीसरे ओवर की दूसरी गेंद पर कप्तान फाफ डु प्लेसिस का बड़ा विकेट लिया। शशांक सिंह ने फाफ का कैच लिया और उन्हें पवेलियन भेज दिया।

भाग्य ने फिर धोखा दिया

इसके बाद तीसरे ओवर की आखिरी गेंद पर भाग्य ने एक बार फिर कवरप्पा को धोखा दिया। रिले रूसो ने विराट कोहली का कैच शॉर्ट कवर पर गिरा दिया। हालांकि यह पकड़ना थोड़ा मुश्किल था। कावेरप्पा ने पांचवें ओवर की चौथी गेंद पर विल जैक्स को आउट किया। हर्षल पटेल ने यह कैच लपका। जैक्स सिर्फ 17 रन बनाकर आउट हो गए।

एक अविस्मरणीय शुरुआत

कवरप्पा की गति को देखकर लगता था कि भाग्य अब उसके पक्ष में था, लेकिन यह क्या है? हर्षल पटेल ने इस ओवर की आखिरी गेंद पर रजत पटिदार का कैच छोड़ दिया। कवेरप्पा ने अपने 4 ओवरों में 36 रन देकर 2 विकेट लिए। यह पदार्पण उनके लिए अविस्मरणीय होगा। आपको बता दें कि विद्वत कर्नाटक के गेंदबाज हैं। जिन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन किया है।