धर्मशाला टेस्ट में यशस्वी जयसवाल कमाल कर सकते हैं और स्टोक्स-मैकुलम से आगे निकल सकते हैं

0
3
Yashasvi Jaiswal can excel and surpass Stokes-McCullum
AsportsN। Image Credit: Social Media

भारत और इंग्लैंड के बीच निर्धारित पांच टेस्ट मैचों में से चार पहले ही खेले जा चुके हैं। हालाँकि इंग्लैंड ने शुरुआती मैच में जीत हासिल की, लेकिन टीम इंडिया ने अविश्वसनीय वापसी करते हुए लगातार तीन मैच जीते। उसने जीत के साथ सीरीज में भी अजेय बढ़त बना ली है। भारतीय टीम के लिए सलामी बल्लेबाज यशस्वी जयसवाल ने बल्ले से शानदार प्रदर्शन किया और 4 मैचों में 93.57 की औसत से 655 रन बनाए। इस दौरान उनके बल्ले से दो दोहरी शतकीय पारियां भी निकली हैं। यशस्वी जयसवाल धर्मशाला टेस्ट में एक अहम रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं, जो इंग्लैंड टेस्ट टीम के मौजूदा मुख्य कोच ब्रेंडन मैकुलम के नाम है।

टेस्ट मैचों में एक साल में सर्वाधिक छक्कों का रिकॉर्ड तोड़ने के बहुत करीब

इस सीरीज के चार टेस्ट मैचों में यशस्वी जयसवाल ने आक्रामक बल्लेबाजी की है और अब तक उनके बल्ले से 23 छक्के निकले हैं। इसके साथ, जयसवाल बेन स्टोक्स और ब्रेंडन मैकुलम के रिकॉर्ड को तोड़ने के करीब हैं, भले ही वर्तमान में उनके पास भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट में एक कैलेंडर वर्ष में सर्वाधिक छक्के लगाने का रिकॉर्ड है। मैकुलम, जिनके नाम अब टेस्ट क्रिकेट में एक कैलेंडर वर्ष में सर्वाधिक छक्के लगाने का रिकॉर्ड है, ने वर्ष 2014 में 33 छक्के लगाए। वर्ष 2022 में 33 छक्के लगाने वाले बेन स्टोक्स इस सूची में दूसरे स्थान पर हैं। 26 छक्के लगाए हैं। इस समय, जयसवाल के पास धर्मशाला टेस्ट में ही इस रिकॉर्ड को तोड़ने का शानदार मौका है और सिर्फ 11 और छक्कों के साथ ऐसा करने की संभावना है।

धर्मशाला में भी भारतीय टीम का रिकॉर्ड कुछ ऐसा ही था

भारत और इंग्लैंड के बीच आखिरी टेस्ट मैच 7 मार्च को धर्मशाला स्टेडियम में होना है। इस स्टेडियम ने अब तक केवल एक टेस्ट मैच की मेजबानी की है, जो 2017 में ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच हुआ था। कुलदीप यादव और रविचंद्रन अश्विन की बेहतरीन गेंदबाजी से टीम इंडिया ने यह मैच आठ विकेट से जीत लिया। ऐसे में भारतीय टीम निस्संदेह सीरीज 4-1 से जीतने के लक्ष्य के साथ अपना रिकॉर्ड बरकरार रखने की कोशिश करेगी।