news

भारत को इन 3 गलतियों से बचने की जरूरत है। पहले मैच में यही कारण था।

भारतीय क्रिकेट टीम को जिम्बाब्वे के खिलाफ पांच मैचों की टी20 सीरीज के पहले मैच में करारी हार का सामना करना पड़ा था। मैच में भारतीय टीम के खिलाड़ियों को जिम्बाब्वे के खिलाफ संघर्ष करते देखा गया। टीम इंडिया के खिलाड़ी पूरे मैच में गलतियां करते रहे और अंत में उन्हें भी नुकसान उठाना पड़ा। टीम 13 रन से मैच हार गई। खिलाड़ियों में अनुभव की कमी थी। जिम्बाब्वे ने पांच मैचों की टी20 सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। अब टीम इंडिया को सीरीज में वापसी करने के लिए अपने पिछले मैचों की गलतियों को सुधारना होगा।

अति आत्मविश्वास

भारतीय टीम में अनुभवी खिलाड़ियों की कमी है। लेकिन खिलाड़ी बहुत आश्वस्त हैं। मैच के दौरान ऐसा लग रहा था कि जिम्बाब्वे के खिलाफ इस मैच के लिए टीम इंडिया की तैयारी अधूरी थी। टीम ने मेजबान टीम और उसके घरेलू मैदान के बल पर ज्यादा होमवर्क भी नहीं किया। टीम ने 116 रन के लक्ष्य को भी हल्के में लिया और मैदान पर समय बिताने के बजाय बड़े शॉट खेलकर रन बनाने के प्रयास में विकेट गंवाते रहे। लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए, एक डबल के साथ भी रन बनाकर मैच जीता जा सकता था।

अनुभव की कमी

हरारे की पिच पर गेंद बल्ले पर ठीक से नहीं आ रही थी। यही कारण है कि पूरे मैच में केवल 2 छक्के थे। एक छक्का वाशिंगटन सुंदर के बल्ले से लगा और दूसरा छक्का जिम्बाब्वे के कप्तान सिकंदर रजा ने लगाया। इसके बावजूद भारतीय बल्लेबाजों ने हवाई शॉट खेलना जारी रखा। यह स्पष्ट है कि इन बल्लेबाजों में अनुभव की कमी स्पष्ट थी। अगर बल्लेबाज कुछ समय के लिए मैदान पर रहते और एक भी डबल के साथ स्ट्राइक बदल देते, तो मैच का परिणाम अलग होता। भारतीय टीम को अंतिम 10 ओवरों में लगभग 70 रन बनाने थे, लेकिन बल्लेबाजों ने मैदान पर समय बिताने के बजाय बड़े शॉट खेलने के लिए अपने विकेट गंवाए। एक छोर पर, वाशिंगटन सुंदर अच्छा खेल रहे थे, लेकिन उन्हें स्ट्राइक देने के बजाय, दूसरे छोर पर टेल-एंडर्स भी हवाई शॉट खेलते हुए अपने विकेट खोते रहे।

18 साल के अंतर वाले टीम इंडिया के वर्ल्ड चैंपियन क्रिकेटर पर माधुरी दीक्षित अपना दिल हार बैठीं

खराब गेंदबाजी

जिम्बाब्वे के खिलाफ मैच में टीम इंडिया की बल्लेबाजी पूरी तरह से ध्वस्त हो गई थी। लेकिन टीम की गेंदबाजी में भी अनुभव की कमी थी। एक समय भारतीय गेंदबाजों ने जिम्बाब्वे को 9 विकेट पर 90 रन पर समेट दिया था। लेकिन गेंदबाजों को अंतिम विकेट नहीं मिल सका। अंतिम जोड़ी के रूप में, मदंदे और चतारा ने 25 रनों की साझेदारी की और टीम के स्कोर को 115 रनों तक ले गए। भारत यह मैच 25 रन से हार गया था।

Back to top button