news

सूर्यकुमार यादव ने पहली बार कैच पर तोड़ी चुप्पी, सामने आई सच्चाई

टीम इंडिया ने T20 वर्ल्ड कप जीता है। सूर्यकुमार यादव ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विश्व कप फाइनल में शानदार कैच लपका था। इसे ‘कैच ऑफ द सेंचुरी’ के रूप में भी जाना जाता है। दक्षिण अफ्रीका के डेविड मिलर ने शानदार गेंदबाजी की। अगर सूर्या ने वह कैच नहीं पकड़ा होता तो भारत विश्व कप नहीं जीत पाता। हालांकि, कुछ लोग सूर्य के इस कैच पर भी सवाल उठा रहे हैं। शायद भारत नहीं जीतेगा। कहा जा रहा है कि जब सूर्य ने कैच पकड़ा तो उसका पैर सीमा को छू गया। दूसरी ओर, यह भी पता चला कि जहां सूर्य ने कैच पकड़ा था, वहां एक बाउंड्री कुशन होना चाहिए था, जो किसी कारण से पीछे गिर गया था। अब सूर्यकुमार ने खुद इस पूरे मामले पर अपनी चुप्पी तोड़ी है।

उन्होंने कहा, “मैंने सीमा रेखा को नहीं छुआ।

उन्होंने कहा, “जब मैंने फाइनल में गेंद पकड़ी, तो मैंने सीमा रेखा को नहीं छुआ। हम सभी को खुश नहीं कर सकते। उन्होंने कहा, “मैंने वही किया जो मुझे सही लगा। भगवान की कृपा से जब गेंद मेरे पास आई तो मैं वहीं खड़ा था। मुझे यह मौका मिला। मैं उस पल को हमेशा संजो कर रखूंगा। सूर्या का यह भी कहना है कि हमने इस तरह के कैच लेने के लिए बहुत अभ्यास किया है। मैच के दौरान मैं शांत रहा। उपरोक्त ने मुझे देश के लिए बेहतर प्रदर्शन करने का अवसर दिया।”

कई हस्तियों ने इसकी प्रशंसा की है।

सूर्य ने इस कथन के माध्यम से स्पष्ट कर दिया है कि उनका पैर सीमा को नहीं छू रहा था। उन्होंने आलोचकों को भी करारा जवाब दिया। सूर्य के इस शानदार कैच पर उन्हें दुनिया के दिग्गज क्रिकेटरों ने भी बधाई दी। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व क्रिकेटर शॉन पोलक ने भी इस फैसले की आलोचना की थी। आपको बता दें कि सूर्या के इस कैच से जुड़ा एक और वीडियो सामने आया था, जिसमें दक्षिण अफ्रीका के फील्डर ने विराट कोहली की बाउंड्री को रोकने के लिए बाउंड्री की रस्सी को तोड़ दिया था। ऐसा पहले भी होता रहा है। दोनों टीमों के लिए स्थिति समान थी। इसलिए इस शानदार कैच पर कोई विवाद नहीं होना चाहिए।

क्या ये खिलाड़ी श्रीलंका दौरे पर कोहली और बुमराह की अनुपस्थिति की भरपाई कर पाएंगे?
Back to top button